कोंडागांव का इतिहास

माननीय मुख्यमंत्री जी द्वारा स्वतंत्रता दिवस 2011 के अवसर पर की गई घोषणा के अनुरूप प्रदेश में 09 राजस्व जिलों का गठन किया गया। इन्हीं 09 जिलों में से एक कोण्डागांव जिला है जो दिनांक 01 जनवरी 2012 को अस्तित्व में आया। यह राजस्व जिला अपनी अनुपम प्राकृतिक सम्पदा एवं विभिन्न प्रकार के परम्परागत शिल्पों का उद्गम है । सम्पूर्ण कोण्डागांव जिला कुल 368783 हेक्टेयर मे फैला हुआ है । यह उत्तर में कांकेर एवं धमतरी, पूर्व में बस्तर, पश्चिम में नारायणपुर तथा दक्षिण में दंतेवाडा जिले को स्पर्श करता है।

इतिहास के आर्इने में कोण्डागांव

कोंडागांव के अतीत में प्रचलित है, कि इसका प्राचीन नाम कोण्डानार था। बताया जाता है कि मरार लोग गोलेड गाड़ी में जा रहे थे, तब कोण्डागांव के वर्तमान गांधी चौक के पास पुराने नारायणपुर रोड से आते हुए कंद की लताओं में गाड़ी फंस गयी। उन्हे मजबूरी में रात को वहीं विश्राम करना पड़ा। बताया जाता है कि उनके प्रमुख को स्वप्न आया। स्वप्न में देवी ने उन्हें यहीं बसने का निर्देष दिया। उन्होंने उस स्थान की भूमि को अत्यंत उपजाऊ देखकर देवी के निर्देशानुसार यहीं बसना उचित समझा। उस समय इसे कान्दानार (कंद की लता आधार पर) प्रचलित किया गया, जो कालान्तर कोण्डानार बन गया।

इसी बीच बस्तर रियासत के एक अधिकारी ने हनुमान मंदिर में वरिष्ठ जनों की एक बैठक में इसे कोण्डानार के स्थान पर कोण्डागांव रखना ज्यादा उचित बताया। उस समय का पुराना मार्ग पुराना नारायणपुर मार्ग ही था। अत: मरारों के मुख्य परिवारों की बसाहट उसी मार्ग के दोनों ओर हुर्इ। यही पुराना कोण्डागांव था।सन 1905 में केशकाल घाटी के निर्माण के बाद मुख्य सड़क बनी, जो गांधी चौक के पास पुराने नारायणपुर मार्ग से मिलती है। नया मार्ग बनने पर उसके दोनों ओर नर्इ बसाहट होने लगी। रोजगारी पारा नए मार्ग के दोनों ओर बसा। केशकाल घाटी की सड़क का निर्माण होने के बाद केशकाल का क्षेत्र राठौर परिवार को मालगुजारी में दिया गया। वह परिवार तथा इनसे संबंधित लोग बाद में कोण्डागांव मुख्य मार्ग पर बसे।

Read More

फीडबैक

सुझाव देना

LATEST NEWS

Latest News of Kondagaon

जिला पुलिस कोण्डागांव द्वारा दिनांक 11.10.2017 को 04 सक्रिय नक्सली सदस्य को गिरफ्तार किया गया। पिछले 02 वर्षो से पुलिस इनकी तलाष कर रही थी।

By Admin at Oct 14, 2017
थाना मर्दापाल के हडेली एवं खोड़सानार के जंगल मे घेराबंदी कर सभी नक्सलियों को पकड़ा गया। गिरफ्तार नक्सलियों के विरूद्ध जिला कोण्डागांव में पूर्व मे विभिन्न नक्सली अपराध पंजीबद्ध है।

हेलमेट जागरूकता हेतु दो पहिया वाहन चालक जो हेलमेट पहने हुए थे उनके प्रोत्साहन हेतु आटोग्राफ लेकर उन्हे फूल दिया गया,

By Admin at Nov 07, 2017
प्रोत्साहन हेतु आटोग्राफ लेकर उन्हे फूल दिया गया, तथा अन्य लोगों को हेलमेट पहनकर वाहन चलाने हेतु समझाईस दिया गया।

यातायात जागरूकता के तहत् वाहनों के नम्बर प्लेट लिखने का सही तरीका हेतु

By Admin at Oct 09, 2017
पाम्पलेट व फैलक्स के माध्यम से लोगों को समझाइस दिया गया। कि जल्द ही अपने वाहन में रजिस्ट्रेषन नम्बर अवष्यक रूप से सही तरिका/नियम से लिखावें।